Join Telegram group Join Now
WhatsApp Group (Join Now) Join Now

Tatkal Ticket Cancelation Update: Tatkal Ticket Cancelation तत्काल टिकट कैंसिल करने पर कितना कटेगा चार्ज? जानें। 

Tatkal Ticket Cancelation Update: Tatkal Ticket Cancelation तत्काल टिकट कैंसिल करने पर कितना कटेगा चार्ज? जानें। 

Tatkal Ticket Cancelation Update:

भारतीय रेलवे देश में यात्रा का सबसे पसंदीदा साधन माना जाता है। इस वजह से ट्रेन में काफी भीड़ होती है। कई बार टिकट मिलना मुश्किल हो जाता है। लेकिन इसके लिए तत्काल टिकट एक ऐसा विकल्प है जिसके जरिए आप यात्रा से एक दिन पहले टिकट बनवा सकते हैं. 

तत्काल टिकट को लेकर लोगों के मन में यह सवाल रहता है कि क्या इसे कैंसिल किया जा सकता है? तो आज हम तत्काल टिकट से जुड़े इन सभी सवालों के जवाब जानेंगे। हम जानेंगे कि तत्काल टिकट रद्द किया जा सकता है या नहीं और रद्द करने पर कितना रिफंड मिलता है. 

क्या तत्काल टिकट (Tatkal Ticket) रद्द किया जा सकता है?

बतादें कि अन्य टिकटों की तरह तत्काल टिकट भी कैंसिल किया जा सकता है। तत्काल टिकट रद्द करने के कुछ मामलों में रेलवे रिफंड देता है, जबकि कुछ में नहीं.  यह टिकट रद्द करने के कारणों पर निर्भर करता है.  आईआरसीटीसी की वेबसाइट के मुताबिक, अगर किसी यात्री ने तत्काल टिकट बुक किया है और किसी कारण से यात्रा नहीं करता है, तो रेलवे उसे टिकट रद्द करने पर रिफंड नहीं देग. 

तीन घंटे से अधिक की देरी होने पर कन्फर्म तत्काल टिकट को रद्द करके रिफंड का दावा किया जा सकता है:

यदि ट्रेन जिस रेलवे स्टेशन से चलती है, वहां तीन घंटे से अधिक की देरी होने पर कन्फर्म तत्काल टिकट को रद्द करके रिफंड का दावा किया जा सकता है। इसके लिए यात्री को टीडीआर यानी टिकट जमा रसीद लेनी होगी। राशि लौटाते समय रेलवे केवल लिपिकीय शुल्क ही काटता है. 

इसी तरह, अगर ट्रेन का रूट बदल दिया गया है और यात्री उस रूट से यात्रा नहीं करना चाहता है, तो टिकट रद्द करके रिफंड का दावा किया जा सकता है। वहीं अगर रेलवे किसी यात्री को आरक्षण श्रेणी से नीचे की श्रेणी में सीट दे रहा है और यात्री उस श्रेणी में यात्रा नहीं करना चाहता है, तो भी यात्री तत्काल टिकट रद्द कर रिफंड का दावा कर सकता है. 

Some Important Links

OFFICIAL WEBSITE  CLICK HERE 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page